June 14, 2021

Diamondonenews

All in one

love relationship and dating tips These five things make the relationship weak

किसी भी रिश्ते को परफेक्ट बनाए रखने और मजबूत करने के लिए दो लोगों के बीच कुछ चीजें जरूर होनी चाहिए। जैसे देखभाल, सम्मान, विश्वास, प्यार। प्यार को लेकर लोगों की अपनी-अपनी मान्यताएं हैं। वहीं, रिश्ते को मजबूत करने के लिए अलग-अलग थ्योरी हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ मान्यताएं ऐसी होती हैं जो रिश्ते को मजबूत नहीं बल्कि कमजोर बना सकती हैं। आइए एक नजर डालते हैं उन बातों पर

छोटी-छोटी बातें भी अपने पार्टनर से शेयर करना
अपने पार्टनर को हर एक बात बताना आपके परफेक्ट थ्योरी का हिस्सा हो सकता है, लेकिन अक्सर हम यह भूल जाते हैं कि कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो हमें और हमारे अपने अर्थ को परिभाषित करती हैं, जो जरूरत के हिसाब से खुद तक सीमित होनी चाहिए। इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपने साथी से झूठ बोलें या सच से बचें। इसका सीधा सा मतलब है कि आपको अपने व्यक्तित्व में सुधार करने और अपने साथी को सब कुछ बताने के लिए बाध्य महसूस करने की आवश्यकता है।

रिश्ते में समझौता
रिश्ते में समझौता करना सीखना चाहिए! यह आपने अक्सर सुना होगा लेकिन यह पूरी तरह से बेतुका है। असहमति किसी भी रिश्ते का हिस्सा होती है, लेकिन समझौता करने से आपका व्यक्तित्व से रिश्ता कमजोर हो जाता है। एक रिश्ते में अपनी राय और विचार व्यक्त करना महत्वपूर्ण है। यदि आप समझौता और बातचीत के आगे झुकते रहते हैं, तो आपका रिश्ता मजबूत नहीं हो रहा है, बल्कि खिंचता जा रहा है।

बस देने की भावना रखिये, बिना किसी अपेक्षा के
रिश्ते में सब कुछ देना और बदले में कुछ न उम्मीद करना एक मिथक है। एक रिश्ते में, हर कोई देना और लेना है, और यहां तक ​​​​कि अगर आप खुद को “दाता” मानते हैं, तो कम से कम आप उम्मीद करेंगे कि आपका साथी इसे महत्व देगा। अपने पार्टनर को सब कुछ देते रहना बड़ा दिल होने की बात जरूर है, लेकिन एक हेल्दी रिश्ता वह होता है जहां आप अपने पार्टनर को प्यार और सपोर्ट देते हैं।

एक अच्छे रिश्ते में कभी लड़ाई नहीं होती
आप रिश्ते में कभी भी लड़ाई-झगड़े से बच नहीं सकते। अगर आपको लगता है कि एक स्वस्थ, खुशहाल रिश्ते का मतलब है कि आपको और आपके साथी को कभी लड़ाई नहीं करनी चाहिए, तो आप गलतफहमी के कगार पर हैं। यहां सवाल यह नहीं है कि कपल्स में लड़ाई कैसे होती है। असली सवाल यह है कि लड़ते हुए वे किन इलाकों में रहते हैं।

गुस्सा

ईर्ष्या का अर्थ है प्रेम
ईर्ष्या का संबंध प्रेम से नहीं बल्कि असुरक्षा की भावना से है। अगर किसी को जलन हो रही है तो इसका मतलब है कि उसका साथी उसे यह विश्वास नहीं दिला पाया है कि उसकी जगह कोई और नहीं ले सकता। जलन असुरक्षा का संकेत है और समय के साथ खराब हो सकती है। शुरू में यह बात प्यारी लगती है लेकिन आगे जाकर यह रिश्ते को कमजोर बना देती है।

.

Source link